बड़ी बहन की गांड मारने का मजा

हॉट दीदी Xxx कहानी में पढ़ें कि एक रात मैं दीदी के पास सोया. बीच में मेरी नींद खुली तो मेरे हाथों में दीदी की चूचियां थी. मुझे मजा आया. उसके बाद क्या हुआ?

मेरा नाम सुमित है। मैं एक छोटे से शहर का रहने वाला हूँ।
मेरे परिवार में कुल 5 सदस्य हैं, मम्मी पापा, दो बड़ी बहन और एक छोटा भाई।

बड़ी दीदी शहर से बाहर रहती हैं, मैं भी पढ़ाई करने के लिए बाहर रहता हूँ, छोटा भाई और दूसरी दीदी घर ही मम्मी पापा के साथ रहते हैं।

दूसरी दीदी मुझसे 11 महीने बड़ी है लेकिन जन्म एक ही वर्ष में हुआ है।

ये हॉट दीदी Xxx कहानी उस वक्त की है जब हम 12वीं में थे। मैं बाहर हॉस्टल में रह कर पढ़ता था.

एक बार की बात है मैं छुट्टियों में घर आया हुआ था.

तो अचानक से प्लान बना कि नानी घर जाना है.
मम्मी, छोटा भाई और पापा नानी घर चले गए और हम दोनों भाई-बहन घर पर ही रह गए।

गर्मी का मौसम था तो हम दोनों भाई-बहन एक ही पलंग पर एक कूलर चला कर सो गए.

मैं जब सोता हूँ तो मेरी आदत है कि मैं कुछ पकड़ कर रखूं, उस रात भी मैंने तकिया पकड़ कर रखा था.

लेकिन जब मेरी नींद खुली तो मेरा हाथ मेरी दीदी के चूची पर था.
दीदी शायद पूरी तरह से नींद में थी इसलिए उन्हें कुछ पता नहीं चला।

यह देखने के लिए कि वो सो रही है या जगी हुई है, मैं हल्के हल्के उनकी चूचियों पर हाथ फेरने लगा।
जब उन्होंने किसी भी तरह की हलचल नहीं की तो मैं समझ गया कि वो पूरी तरह नींद में हैं।
मैं हल्के हल्के उनकी चूचियों को दबाने लगा.

क्या मस्त गोल गोल चूचियाँ थी उनकी!
थोड़ी देर में मुझे लगा कि दीदी नींद से जग गयी हैं.

एक पल के लिए तो मैं काफी डर गया था लेकिन फिर मैं उनकी चूचियों के साथ खेलने लगा.
कभी बायीं को सहलाता तो कभी दायीं को!

थोड़ी देर में वो पूरी तरह से जग चुकी थी और अपने पैरों को आपस में रगड़ रही थी.
मैंने भी सहलाना नहीं छोड़ा।

थोड़ी देर बाद मैंने उनकी टॉप में हाथ घुसा दिया और ब्रा के ऊपर अपना हाथ रख दिया और दबाने लगा.

दीदी ने एक करवट ली ताकि मेरा हाथ उनके टॉप से ना निकले और अचानक से उठ कर बैठ गयी फिर मेरी तरफ झुक गयी और मेरे होंठों पर उन्होंने अपने होंठ रख दिये और किस करने लगी।
इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाता … वो मेरे होंठों को जबरदस्त तरीके से चूस रही थी.
फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों अलग हो गए थे।

More Sexy Stories  गांव में फुफेरे भाई के साथ रंगरलियां- 1

दीदी ने पूछा- अच्छे से करोगे?
पहले तो मैं सकपका गया और कहा- दीदी, ये सब गलत है, हम भाई-बहन हैं.

तब दीदी ने कहा- आधे घण्टे से जब तुम मेरी चूचियों को दबा रहे थे … तब ये ख्याल नहीं आया?
मैं चुप था.

उन्होंने मेरी बनियान उतारने को कहा और खुद अपना टॉप उतार लिया.
उस पीली रोशनी में दीदी की बैंगनी रंग की ब्रा क्या चमक रही थी, पूछो मत दोस्तो!

दीदी मेरे करीब आई और एक बार फिर हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूसना शुरू कर दिया और मैं उसकी चूची भी दबा रहा था।

फिर मैंने उनकी ब्रा भी उतार दी और बिस्तर पर लिटा कर उनकी चूचियों को मुँह में भर लिया और बीच बीच में उनके निप्पल भी काट रहा था.
उधर दीदी धीरे धीरे आह, ओह उम्म आहम्म की आवाज निकाल रही थी।

ऐसी आवाज सुनकर मुझे और जोश आ रहा था, मैं उनकी चूचियों को जबरदस्त तरीके से चूस रहा था.

फिर मैं उनके पेट को चाटने लगा. वो और जोर से आवाज निकाल रही थी।

थोड़ी देर बाद दीदी ने मुझसे पूछा- सेक्स करोगे मेरे साथ?
ये सुनकर तो मुझे और पसीना आने लगा, मैं चुप रहा।

दीदी ने अपना लोवर उतार दिया और मुझे भी उतारने को कहा.
और खुद अपनी पैंटी में हाथ डाल कर अपनी चूत को रगड़ने लगी.

फिर दीदी उसी तरह की आवाज निकाल कर बिस्तर पर तड़प रही थी और कह रही थी- फक मी ब्रो! फक मी ब्रो! फक मी हार्डर!
दीदी के उतावलेपन और उस जोश को देख कर मुझे लगा कि दीदी पहले भी किसी से चुद चुकी है।
पर ये सब ना सोचते हुए मैं अपने लन्ड को बाहर निकाल कर सहलाने लगा।

दीदी ने मेरा लन्ड पकड़ लिया था और हिला रही थी।
फिर थोड़ी देर बाद अपने मुँह से थूक निकाल कर मेरे लन्ड पर लगा दिया और कहा- इसे मेरी गांड में डालो।

मैं तो पहली बार ही किसी के साथ सेक्स कर रहा था, मुझे कुछ पता नहीं था, कौन सा गांड का छेद और कौन चूत का!
फिर दीदी ने मुझे बेड पर लिटा दिया और खुद मेरे लन्ड को अपनी गांड में डाल लिया और धीरे धीरे उछल रही थी.

मैं समझ गया कि यही गांड की छेद है और इसमें ही अपना लन्ड डालना है।
जब पहली बार दीदी के गांड में मेरा लन्ड गया तो मुझे बहुत दर्द हुआ.

More Sexy Stories  कज़िन आलिया की सील तोड़ी

कुछ देर बाद मैंने दीदी को उठने को कहा और घोड़ी बनने को कहा.

और तब मैंने उनकी गांड में अपना लन्ड घुसा दिया और प्यार से चोदने लगा.
दीदी अब भी उसी तरह की आवाज निकाल रही थी और कह रही थी- फक मी … फक मी …

जब दीदी को मजा आने लगा तो दीदी ‘ओह यस … ओह यस … उउम्म आह … आहहम्म …’ इसी तरह की आवाज निकाल रही थी।
अब मुझे भी चोदने में मजा आ रहा था।

थोड़ी देर बाद हम दोनों ही झड़ गए थे, फिर मैंने बाथरूम में जाकर अपना लन्ड साफ किया.
दीदी ने भी मेरे सामने ही अपनी गांड और चूत की सफाई की।

फिर हम दोनों बिस्तर पर आ गए।

अब मेरी नंगी दीदी ने कहा- कैसा लगा ये सब करके अपनी दीदी के साथ?

मैं बोला- मैंने तो कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि कभी आपके साथ ये सब करूँगा, मुझे भी बड़ा मजा आया।

फिर दीदी अपनी ब्रा और टॉप पहनने लगी तो मैंने दीदी से कहा- क्या आज रात हम दोनों नंगे सो सकते हैं?
इस पर दीदी ने हामी भर दी और हम दोनों चिपक कर एक साथ सो गए.
पर हमारी आँखों में नींद कहाँ।

मैं बार बार दीदी की चूचियों को दबाता, कभी मुँह लगाता, दीदी भी लगातार अपना चूत रगड़ रही थी।

मैंने दीदी से पूछा- क्या मैं आपकी चूत को रगड़ दूं?
दीदी ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी चूत पर रख दिया.

बहना की चूत रगड़ते पता नहीं कब हम दोनों को नींद आ गयी।

सुबह जब मेरी नींद खुली तो दीदी कपड़े पहन चुकी थी और मुझे उठाने आयी।
जब मुझे उठाने आयी तो मैंने दीदी को अपनी तरफ खींच लिया और एक बार फिर उनके होंठ को चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद उन्होंने कहा- अब उठो और ये सब हरकत मम्मी पापा के सामने मत करना. और ना ही दूसरे कमरे में बुला कर! अगर देख लिया ना तो हम दोनों की खैर नहीं।

फिर हम दोनों उठे, फ्रेश हुए.
दीदी चाय बनाने चले गयी और मैं मोबाइल पर गेम खेलने लगा.

एक घण्टे बाद मम्मी पापा भी आ गए.
फिर सब नॉर्मल हो गया.

इसके बाद जब कभी हमें मौका मिलता, मैं उनके चूचियों को सहला देता या फिर दबा देता।

तो मिलते हैं दोस्तो, फिर बाद में कभी एक नई कहानी के साथ!
आपको मेरी हॉट दीदी Xxx कहानी कैसी लगी?
[email protected]