बाबा से चुदी शादी शुदा पत्नी सेक्स कहानी

ये कहानी शुरू होती है एक पहाड़ी गाओं से. उस छोटे से गाओं मे रहने वेल परिवार की. उस गाओं का और उसके परिवार का मुखिया सूर्यभान काफ़ी जाना माना इंसान था.

सूर्यभान को ज़मीन जाएज़ाद की कोई कमी नही थी. इसी लिए उसको वाहा के लोग काफ़ी इज़्ज़त करते थे. पर सूर्यभान अपनी निजी जिंदगी को लेकर काफ़ी परेशन रहता था.’

जिसका कारण था उसकी बढ़ती उमर और उसको दो पत्नी के होते हुए भी वो औलाद पैदा करने मे नाकाम रहता था. सूर्यभान 40 साल का हो चुका था और उसकी पहली पत्नी निर्मला 25 साल की थी.

जब निर्मला की शादी सूर्यभान से हुई तब निर्मला 20 साल की थी. शादी के 5 साल हो जाने के बाद भी सूर्यभान को औलाद ना हुई. तब घरवालो के दबाव मे मजबूरन सूर्यभान को दूसरी शादी करनी पड़ी.

उसकी दूसरे पत्नी का नाम था सुनीता. 18 साल की आगे मे सुनीता बहोट खूबसूरत और सेक्सी बदन की मालकिन थी. ग़रीबी मे जन्मी सुनीता मजबूरन सूर्यभान से शादी करने राज़ी हो गयी.

निर्मला और सुनीता की जवानी तड़प ती जा रही थी. सूर्यभान का लंड काफ़ी छोटा था. और चुदाई मे भी सूर्यभान काफ़ी कमजोर था. अपनी इज़्ज़त बचाने के लिए सूर्यभान परेशन रहने लगा.

कुछ दीनो बाद सूर्यभान को किसी गाओं वेल ने कहा था. 20 केयेम दूर पहाड़ी के गुफा मे एक बाबा रहते है. और वो बाकछे ना होने का इलाज करते है कई. लोगो को उनके इलाज से बाकछे पैदा हुए है. तुम अपनी दोनो पत्नियो को लेकर बाबा के गुफा मे चले जाओ.

ये सुन कर सूर्यभान काफ़ी खुश हो गया. अगली सुबा अपनी दोनो पत्नियो को लेकर सूर्यभान पहाड़ी गुफा की और चल दिया. रास्ता कक्चा था वाहा जाने मे सुबा से शाम हो जाती थी. चलते चलते सूर्यभान बाबा की गुफा मे पहुँच गया.

बाबा की गुफा काफ़ी बड़ी थी पत्थर से बँधे हुए, 4 कमरे, नहाने के लिए ज़ारना और हर सुविधा से संपूर्ण गुफा लग रही थी.

जैसे ही सूर्यभान और उसकी दोनो पत्नी निर्मला और सुनीता बाबा की गुफा के बितर परवेश किए. वाहा उनको बाबा नज़र आ गये. बाबा अपनी दो दासी के साथ गुफा मे रहते थे.

बाबा काफ़ी जवान लग रहे थे 40 के आस पास बाबा की उमर थी. पर शरीर की कुद्रती बनावट कसरत किए हुए बदन चावडा बालो से भरा सीना कमर पे पतला सा कपड़ा बाँध कर बाबा आराम कर रहे थे.

बाबा को देख कर दोनो पटनीटो के आँखो मे चुदाई की चमक आ गयी.

सूर्यभान ने बाबा को उसके आने का कारण बताया. बाबा ने सूर्यभान के हाथो की नस देखी और सूर्यभान को अकेले आने को कहा. और सूर्यभान को उसकी परेशानी का इलाज कैसे करना है संज़ाया. साथ ही सूर्यभान को अपनी पत्नियो को दासी के हवाले कर शहर से तुरंत कुछ समान और पत्नियो के कपड़े लेकर आने को कहा.

सूर्यभान बाबा पे विश्वास कर के पत्नियो को समझा कर अगले दिन रत तक आने का आश्वासन दे कर निकल गया. सूर्यभान को रवाना कर बाबा ने निर्मला और सुनीता को नहा कर इलाज के लिए टायर करने का आदेश दासी को दे दिया.

बाबा का इशारा पाकर एक दासी निर्मला और सुनीता को लेकर ज़ार्ने की तरफ चली गयी. ज़ारना गुफा के साइड मे ही था गुफा से ज़ार्ने का सारा नज़ारा चुप कर देख सकता था.

बाबा का इशारा समझ कर दासी उन दोनो को ज़ार्ने पे नहाने ले गयी. साथ ही उंदोनो को नंगा हो कर नहाने बोल दी. और उंदोनो के छूट और आर्म्पाइट के बालो को रिमूव करने के लिए हेर रिमूव क्रीम दे दी.

बाबा निर्मला और सुनीता का जिस्म गुफा से छुपकर देख रहा था. जब दोनो नंगी हो कर छूट के बाल साफ कर रही थी. तब उनकी जवानी नंगा जिस्म देख कर बाबा अपना विशाल लंड बाहर निकाल कर दूसरे दासी को चूसने का आदेश दे दिया.

More Sexy Stories  Vidhwa Bhabhi Ki Chudai

बाबा का विशाल लंड 11 इंच का मजबूत मोटा और कड़क था. और दोनो दासी बाबा के लंड पे फिदा हो कर बाबा के साथ गुफा मे रहती थी.

बाहर का नज़ारा देख बाबा दासी से लंड चुस्वा रहा था. निर्मला नहाने के बाद अपने कपड़े पहन कर गुफा की और जाने लगी. अचानक निर्मला की नज़र बाबा के लंड पे पद जाती है.

बाबा का विशाल लंड देख कर निर्मला की आँके बड़ी होती है. मॅन ही मॅन निर्मला बाप रे इतना बड़ा और मोटा लंड उफ़फ्फ़ ये लंड है या कोई साँप कहती है. और लंड की चूसा देख कर निर्मला के चूत मे पानी बहने लगता है.

बाबा ये नही जानता था के निर्मला दूसरे कोने से उन दोनो को देख छूट को सारी के उपर से सहला रही थी. बाबा चुदाई मे इतना पर्फेक्ट था के 1 घंटा लगातार चुदाई करने की ताक़त रखता था.

सुनीता का नहाना होने के बाद गुफा की तरफ आती हुई सुनीता निर्मला को दिख जाती है. निर्मला हल्के आवाज़ मे बाबा को सुनीता आ रही है बाबा बोलती है.

बाबा और दासी निर्मला की आवाज़ सुन अलग हो जाते है. दासी गुफा के दूसरे कमरे मे चली जाती. बाबा अपना लंड हटो मे पकड़ कर निर्मला को दिखा कर धोती मे दल देता है और मुस्कुरा कर कहता है. आज शाम तुम्हारी एसी लंड से इलाज करूँगा.

ये सुनते ही निर्मला भाग जाती है. निर्मला सब समझ जाती है के बाबा कैसे बाकचा पैदा करने का इलाज करने वाला है. कैसे भी हो उसको और सुनीता को बाकचा चाहिए होता है.

बाबा शाम का खाना बनाने के लिए बोल कर गुफा मे आराम करता है. दोनो दासी और सुनीता और निर्मला खाना बनाने लग जाती है. खाना खाने के बाद बाबा दासी को बोल कर सुनीता को कुछ पीने के लिए देता है. जिसमे उसने नींद की दवाई मिला देता है.

निर्मला और सुनीता को सोने के लिए गुफा मे एक कमरा दिया जाता है. जैसे ही सुनीता सो चुकी होती है तब दासी निर्मला को बाबा के कमरे मे आने का इशारा करती है.

निर्मला दर और खुशी दोनो मॅन मे लिए बाबा के कमरे जाती है. वाहा का नज़ारा कुछ अलग ही रहता है. बाबा नंगा हो कर लेता है और दोनो दासी बाबा के लंड की मालिश करती हुई नज़र आती है.

निर्मला को देख बाबा दासी को बोलता है. निर्मला को पूरी नंगी कर दो. दासी नंगी ही निर्मला के पास जाती है और निर्मला को नंगा कर देती है और बाबा के लंड की मालिश करवाती है.

पहली बार इतना बड़ा पराया लंड हाथ मे पकड़ कर निर्मला की छूट गीली हो जाती है. निर्मला अपने नाज़ुक हहतो से विशाल लंड की मालिश करने मे लग जाती है.

तभी एक दासी बाबा के लंड को निर्मला के मूह मे दे देती है. निर्मला सब कुछ भुला कर बाबा के लंड को मदहोशी से चाटने लगती है. बाबा भी मदहोश होकर लंड चुस्वता है.

पूकक्च्छ पूउक्च की आवाज़ से निर्मला और गरम हो जाती है. बाबा का लंड जितना मूह मे ले सकती है उतना मूह खोल कर लंड चूसने जाती है. निर्मला को बाबा 69 पोज़िशन मे ले लेता है, निर्मला की छूट बाबा चाटने लग जाता है.

जिंदगी मे पहली बार उसकी छूट कोई छत रहा होता है निर्मला उफफफफ्फ़ आहह उम्म्म्माआ बाबा आहह ऐसी मादक आवाज़ निकलती है.

बाबा अब निर्मला की दोनो की टाँगे उठा कर पोज़िशन बना लेता है. निर्मला की छूट को दासी फैला कर बाबा का लंड हाथ मे पकड़ कर निर्मला की छूट पे सेट करती है.

छूट पे लंड टच होते ही निर्मला की साँसे ज़ोर से चलने लगती है. बाबा एक धक्के मे छूट मे आधा लंड घुसा देता है. निर्मला उययययीीईईईई माआ मरररर गाइिईईईई बाबाआ फटत्त गाइ मेरी चुट्त्त आहह बाबा निकालो आहह ज़ोर से चीखने तड़पने लगती है.

More Sexy Stories  लंड चुस्वाया बेहन का वीक स्पॉट जान के

ये देख दासी अपनी छूट निर्मला के मूह पे रख देती है. बाबा अब धीरे धीरे लंड अंदर बाहर करने लगता है. हल्के हल्के धक्को से पूरा लंड आराम से छूट मे घुसता चला जाता है. दूसरी दासी निर्मला के बड़े बड़े बूब्स चूसने लगती है.

अब निर्मला दासी की छूट को चाटने लग जाती है. ये देख बाबा अपनी स्पीड को तोड़ा बढ़ा देता है निर्मला आहह उफफफफ्फ़ आहह आहह ह्म ऐसी माधोसी भारी आवाज़ निकल ने लग जाती है.

बाबा का पूरा लंड निर्मला की छूट मे बाकछेड़नी तक घुसता चला जाता है. अब बाबा फुल स्पीड मे निर्मला की चुदाई करने लगता है. दासी भी अपनी छूट चटवाना बंद कर के निर्मला के साइड मे हट जाती है.

अब निर्मला अपनी गांद उठा उठा कर बाबा का लंड लेने लगती है. निर्मला का जोश देख कर बाबा धक्को पे धक्के देता जाता है. निर्मला हर धक्के का स्वागत गांद उठा उठा कर करती है.

सारे कमरे मे पुउउक्च पूउक्च्छ आहह ह्म एससस्स आहह उम्म्माआ… निर्मला की आवाज़ गूँजती है. बाबा का 11 इंच लंड निर्मला को छोड़ कर पागल बनता है.

निर्मला अब ज़्ादने के नज़दीक आती है और पूरे जोश मे बाबा आहह छोड़ो और छोड़ो बाबा मुझे मा बना दो बाबा आह बाबा छोड़ो आहह बाबाआ… बोलती है.

बाबा भी निर्मला का जोश देख कर ज़्ादना चाहता है. ज़ोर ज़ोर से धक्को के साथ बाबा छोड़ना चालू रखता है. दोनो दासी 69 पोज़िशन मे छूट चाटने मे लगी रहती है.

चुदाई का जोश और लंड से होने वेल धक्को की रफ़्तार से निर्मला ज़्ादने लगती है. बाबा भी अपना लावा निर्मला की बाकछे दानी मे उतारता चला जाता है.

बाबा के लंड का रस निर्मला की बाकछे दानी और छूट को भीघा देता है. जिंदगी मे इतना रस पहली बार निर्मला अपने छूट मे महसूस कर के खुश हो जाती है. बाबा को खुशी खुशी चूमे जाती है.

बाबा जैसे ही अपना लंड निर्मला की छूट से बाहर निकलता है. तब दोनो दासी गुतणो पे बैठ कर बाबा का लंड बारी बारी चाट कर साफ करती है. निर्मला खुशी से ये सब देख कर मुस्कुरा देती है. और शरम से अपनी आँखे बंद कर के सुकून की साँसे लेने लगती है.

कुछ देर बाद सब शांत हो जाते है. बाबा निर्मला के निपल्स को मूह मे ले कर चूसने लग जाता है. बड़े प्यार से निर्मला बाबा के सर मे हाथ फेरने लगती है.

निर्मला के साइड मे बाबा लेट जाता है और निर्मला ऐसे प्यार से बाबा को देखती है जैसे वो मॅन ही मॅन बाबा को अपना पति मान लेती है. कुछ लम्हे बाद बाबा निर्मला को बोलता है – निर्मला कैसा लगा मेरे लंड से चुड़वकर?

निर्मला भी बाबा को अपना पति समझ कर उसके सिने से शरम से लिपट जाती है.

बाबा निर्मला को बोलता है – सुनीता की चुदाई सुबा करूँगा, तुम उसे टायर… और उठ कर मूतने चला जाता है.

निर्मला को भी मूतने जाना होता है पर वो उठ नही पाती, दासी उसकी मदात करती है. निर्मला वही बैठ कर ज़ोर से मूतने लगती है, उसको मुत्ता हुवा देख कर बाबा का लंड फिर से हलचल मचा देता है.

बाबा की अगली चुदाई निर्मला के साथ और सुनीता के साथ और कैसे जानम लेता है उनका इन्सेस्ट परिवार नेक्स्ट पार्ट मे. मुझे कहानी का रिप्लाइ ज़रूर देना. ओर भी जवान भाभी ओर आंटी को हॉट बाते करना ही तो आप मैल करे [email protected] आप की सारी डीटेल्स एक दम सीक्रेट रहेंगी उससे आप लोग बेफ़िक्र रहे.