अय्याश माँ बेटी की चूत चुदाई एक साथ

मेरा नाम करन है, मैं गुरुग्राम हरियाणा में रहता हूँ, मेरी लंबाई 5.11 है और मेरा लंड 6 इंच का है. मैं पेशे से इंजीनियर हूँ और भारत भ्रमण पर ही रहता हूँ, गुरुग्राम मुश्किल से 10 दिन ही रुक पाता हूँ.

यह बात अभी हाल ही की है, उस दिन रविवार था, थोड़ी शाम हो रही थी, रुक रुक कर हल्की बूंदाबांदी भी हो रही थी. मैं अपनी कार से ग्रेटर कैलाश में ब्लॉक मार्केट गया हुआ था. वहाँ मेरी एक दोस्त मुझसे मिलने आयी थी. वो जैसे ही मुझसे मिलकर वहां से निकली, तो कॉफी हाउस के बाहर एक ऑडी के साथ लग कर शॉर्ट्स और ऑफ शोल्डर्स में दो लड़कियां खड़ी बीयर पी रही थीं. दोनों बारिश के मौसम का मजा ले रही थी रही थीं. दोनों की शक्ल मिल रही थी, दोनों बहनें लग रही थी.

वो दोनों इतनी गोरी और खूबसूरत थीं दोस्तो कि दोनों की नंगी जांघें देख कर मेरा तो खड़ा हो गया. मैं सोचने लगा कि काश इनकी जांघ पर बर्फ के टुकड़े को चूसता हुआ जांघ से चुत तक ले जाऊं.

इतने में एक ने जो दूसरी से थोड़ी बड़ी लग रही थी, मेरी तरफ देखा और बोली- कोई प्रॉब्लम है क्या, जो ऐसे हमको घूर रहे हो?
मैंने भी कह दिया- घूर नहीं रहा हूँ. आप दोनों बहनें खूबसूरती की मिसाल हो, वही देख रहा हूँ!
तो वो मुस्कुता कर बोली- हा हा… हम बहनें नहीं मां बेटी हैं.
मैं हैरान होकर बोला- मैम, आपकी बेटी इतनी बड़ी है, फिर भी आप आज भी उसकी सिस्टर लग रही हैं.
वो मेरी बात से और खुश हो गयी.
अभी उनकी जवानी को सोच ही रहा था, कि वो बता रही थी- हम दोनों माँ बेटी साथ में योगा करने जाती हैं. योगा ही मेरी जवानी का राज है.

मैं यह कह कर जाने लगा तो उसने मुझे आवाज देकर रोका और बोली- आज मेरे हसबैंड आउट ऑफ इंडिया हैं, क्या तुम हमारे साथ साइबर हब गुरुग्राम चलोगे?
मैंने कहा- मैं वहीं रहता हूँ, आप अपनी कार से आ जाएं, तब तक मैं आपको वहीं मिलूंगा, क्यूंकि मेरे पास भी अपनी कार है.
वो मान गयी और बोली- तुम जेंटलमैन हो, मुझे अच्छे लगे.

More Sexy Stories  शादीशुदा औरतों की चूत का दीवाना

सॉरी दोस्तो, मैंने आपको माँ बेटी का नाम नहीं बताया. उसका नाम नीलम उर्फ़ नीलू और बेटी का सुनयना उर्फ़ याना था. दोनों का साइज़ एकदम कातिल था. दोनों के 34 के चुचे और गांड तो इतनी मस्त.. ‘इशह.. हिइई..’ लंड खड़ा हो गया.

मैं जल्दी से गुडग़ांव पहुंचा, कार पार्क की और ओला कैब से साइबर हब आ गया. वो लोग वहां मेरे सामने ही पहुँचे थे.

अब हम लोग सीधा वहां से स्मैश गए, कुछ गेम खेले, ड्रिंक्स की और रात 11.30 वापसी बाहर आए.
नीलू बोली- ओके हम चलते हैं, हम दोनों को तुम्हारा साथ अच्छा लगा.

फिर हमने अलविदा कहा. नीलू ने पूछा- तुम अब बाहर पैदल क्यों?
मैं बोला- पास ही है घर.. मैं गाड़ी पार्क करके ही आ गया था.
तब उसने मुझे अपनी ऑडी में बिठाया, नंबर एक्सचेंज किए और मुझे घर के बाहर तक ड्राप करके अपने घर दिल्ली चली गयी.

अगले दिन नीलू का कॉल आया और बोली- कॉफी पीने चलें?
तो मैंने भी बोल दिया, मुझे घर की कॉफ़ी ज्यादा पसंद है.
उसने उसी दिन मुझे अपने घर बुला लिया, मैं भी घर से रेडी होकर, लंड चिकना करके गया था कि शायद दोनों चुत आज मिलेंगी.

उसका घर, न्यू फ्रेंड कॉलोनी में शानदार कोठी थी, मेरे लिए कॉफी वो खुद लायी और नौकरानी को भेज दिया कि हम आज बाहर खाएंगे.

उसकी बेटी याना भी वहीं मिली. उसकी बेटी मुझे घर दिखाने लगी और बोली- तुम मॉम को पसंद हो, उनको खुश रखना, तुम्हारे मजे रहेंगे.
मैंने पूछा- और तुमको?
तो बोली- देखते हैं, पहले मॉम पास कर दें तुमको, तब कुछ सोचूंगी.

More Sexy Stories  जब मुझे मिली मामी की चूत

याना मुझे अपने रूम में ले जाकर बोली- मैं नहा लेती हूँ, फिर बाहर चलते हैं. मॉम भी अपने रूम में रेडी हो रही हैं.

वो मेरे सामने ही पेंटी टाइप शॉर्ट्स में नहाने अन्दर गयी और मैं वहीं बाहर लंड निकाल के हिलाने लगा. उसको देख कर मामला कंट्रोल से बाहर हो गया था.

मुझे नहीं पता था कि उसकी माँ नीलू दरवाजे के पास से मुझे देख रही थी. मैंने माल निकाल कर उसकी बेड पर पड़ी एक ब्रा से साफ किया ही था कि माँ पीछे से आ गयी.
वो बोली कि ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- सॉरी, आपकी बेटी और आप इतनी हॉट हो कि बस रहा नहीं गया.
मैं शर्मा कर जाने लगा तो बोली कि रुको तुम..
उसने अपनी बेटी को बोला- याना, बाहर आओ टॉवेल में ही..

ये कह कर उस औरत नीलू ने भी मेरे सामने ही अपना टॉप और शॉर्ट उतार दिया. तभी उसकी बेटी याना ने बाहर कदम रखा, वो एक छोटे से तौलिये में थी. सच में सनी लियोनी को भी मात कर रही थी. उसको देख कर मेरा लंड हिनहिनाने लगा.

माँ बोली- लो देखो मेरी गुड़िया को.. और अब हिलाओ.. हमारा बहुत मन है. हम दोनों किसी को लंड हिलाते देखें.

तभी उसकी बेटी ने आगे बढ़ कर मेरे गाल पर चुम्मा जड़ दिया. मेरे होश फाख्ते हो गए और बस यूं लगने लगा कि साली अभी पटक कर चोद दूँ. पर जब दोनों की चुत मिलने वाली हों, तो जल्दबाजी कैसी. बस मैं मस्ती से भर उठा. उन दोनों की जवानी देखकर मैं गरम हो गया और दोनों के सामने अपना लंड हिलाने लगा. अब तक वो दोनों मेरे सामने एक एक कर कपड़े उतार चुकी थीं.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *