आंटी ने दिलाई मॉं की चूत

Aunty Ne Dilayi Maa Ki Chut हेलो दोस्तो, मेरा नाम रोहित है. मैं अपने मम्मी-डाडी का एक्लोत बेटा हूँ और हम अमृतसर मे रहते है. मैं बी.कॉम 1स्ट ईयर मे हूँ और खूब मज़े से अपनी ज़िंदगी काट रहा हूँ. मा की चुत

दोस्तो, हमारे घर पर एक शिल्पा नाम की लेडी आती-जाती रहती थी जो की मम्मी की बहोत अछी सहेली है और वो अक्सर दोपहर को ही पापा के ना होने पर आती थी. शिल्पा आंटी की उमर 36 साल है जो की मेरी मम्मी के बराबर है. शिल्पा आंटी के पति एक बहोत ही बड़े रिच बिज़्नेस मॅन है और अक्सर काम के सिलसिले मे बाहर ही रहते है.

शिल्पा आंटी अक्सर दोपहर मे 2 बजे करीब ही आती थी. एक दिन की बात है, हमारी रिश्तेदारी मे किसी नोन को जो की बहोत बीमार था उसे देखने गये हुए थे, वाहा मेरे जाने का भी मन था पर मेरे एग्ज़ॅम जो की पास ही थे उसकी वजह से घरवाले मुझे साथ नही ले गये. उन्होने मुझे घर पर ही स्टडी करने को कहा और जो की ठीक भी था क्योकि अगर मैं वाहा चला जाता तो मेरी स्टडी मे नुकसान होता. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मम्मी-डाडी के जाने के बाद उसी दिन शिल्पा आंटी करीब डेली की तरह 2 बजे घर पर आ गई. मैने दरवाजा खोला और उन्हे मम्मी- डाडी के यहा ना होने के बारे मे बताया क्योकि मैं उन्हे बाहर से ही बाहर ही भेजना चाहता था पर उन्होने मेरी बात सुनी और खुद दरवाजा पूरा खोलते हुए अंदर आकर सोफे पर बैठ गई.

अब आंटी अंदर आ ही गई थी तो मैने दरवाजा लॉक किया और उनके करीब आकर उनसे चाय-कॉफी के बारे मे पूछा तो उन्होने मना कर्दिया. शिल्पा आंटी की ना सुन कर मैं थोड़ा कन्फ्यूज़्ड हो गया क्योकि वो कभी भी खाने के मामले मे ना नही करती थी. मैं उनके पास मे ही आकर बैठ गया तो आंटी बोली ‘मैं तो तुम्हारे मम्मी-डाडी की आब्सेन्स मे तुम्हारा हाल-चाल पूछने आई हूँ’.

More Sexy Stories  प्यासी भाभी की चूत मे आग

मैं उनकी ये बात सुनकर शॉक हो गया क्योकि मुझे कुछ समझ नही आ रहा था की मैं उनसे क्या बात करू. फिर शिल्पा आंटी खुद ही मुझसे मेरी स्टडी के बारे पूछने लग गई तो मैने भी उन्हे अपनी स्टडी के बारे बता दिया. फिर उन्होने मेरे फ्रेंड्स के बारे पूछा तो मैने उन्हे बिना किसी डर के सारी डीटेल बता दी.

शिल्पा आंटी – रोहित, क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?

मैं – नही आंटी, मैं इन सबमे कोई इंटेरेस्ट नही रखता हूँ.

शिल्पा आंटी- क्या तुमने कभी कामसुत्रा ग्रंथ पढ़ा है?

वो मुझसे बार-बार इस बारे मे पूछने लगी क्योकि मैने इसका पहले जवाब देना ठीक नही समझा पर बार-बार पूछने पर मैने भी बता दिया की मैने थोड़ा-थोड़ा ही पढ़ा है.

शिल्पा आंटी – रोहित जहा तक मुझे लगता है की तुम्हारी उमर के बच्चे पहले से ही सब जान चुके होते है. पर तुम टेन्षन मत लो, मैं तुम्हारे बारे मे किसी को भी नही बत्तौन्गि और यहा तक की तुम्हारी मम्मी को भी नही बताउन्गि.

मैं – आंटी मैने इसके बारे मे मम्मी की अलमारी के लॉकर मे पड़ी बुक को खोल कर पढ़ा है पर ये मैने पूरा नही पढ़ा है.

शिल्पा आंटी – बोहोत अछी बात है, पर तुम्हे इस ग्रंथ मे से सबसे अछा पार्ट कोनसा लगा है?

मैं – आंटी, मैने इसके एक पार्ट मे महारानी को अपने महाराजा के साथ सेक्स करके उनके बेटे के जनम के बारे मे पढ़ा, जो की मुझे बहोत अछा लगा. पर आंटी मुझे एक बात समझ नही आती की सिर्फ़ पति-पत्नी के साथ सोने से न्यू बोर्न कैसे हो सकता है!!

शिल्पा आंटी- रोहित बेटा, तुम अभी इतना नही जानते.

मैं – आंटी तो बताओ मुझे, मेरे दिमाग़ मे ये सवाल काफ़ी समय से है.

शिल्पा आंटी- बेटा, सिर्फ़ पति- पत्नी के साथ सोने से ही नही कुछ होता हैं बल्कि साथ मे एक दूसरे से सेक्स करने से होता है.

More Sexy Stories  पहली चुदाई का मज़ा

अब आंटी ने मुझे अपने पास बैठने को कहा तो मैं उनके पास आकर बैठ गया और वो मेरे बालो मे अपनी उंगलिया सहलाने लग गई. उंगलिया सहलाते हुए वो मेरे और करीब आ गई और मुझे अपने सीने से लगा लिया और फॉर उनका दुपट्टा भी नीचे गिर गया, शायद उन्होने जान-बूज कर खुद गिराया था.

शिल्पा आंटी ने काफ़ी लंबा ब्लाउस पहन रखा था जिसमे से उनके बूब्स काफ़ी बाहर की और दिख रहे थे जिसपर मेरी नज़र भी पड़ चुकी थी. जिसको देखकर मेरे शरीर मे कुछ खल-बलि ज़रूर मची पर मैने कुछ नही बताया.

अब आंटी ने मेरे हाथ को अपने बूब्स की बीच की दरार मे डाल दिया और कहा – रोहित, इसको महसूस करो और तुम जान जाओगे की सुख क्या होता है.

मैं ये सब महसूस करते वक़्त शरमाने लग गया जिसको आंटी ने मेरी आँखो मे देख लिया था.

शिल्पा आंटी – रोहित, तुम शर्मा क्यो रहे हो, देखो तुम एक हटते-काटते इंसान हो और अपनी इस जवानी को क्या मुझे नही दिखाओगे?

अब आंटी ने मेरे जिस्म पर हाथ फेरते हुए काफ़ी तारीफ करी और मेरे मर्दाना शरीर पर तो जैसे वो फिदा ही हो गई और फिर मेरी जाँघो पर हाथ फेरने लग गई. ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था इसलिए मुझे कुछ अछा तो लग ही रहा था पर अजीब भी लग रहा था.

अब आंटी ने मेरे शरीर को नंगा देखने की फरमाइश की और खुद ही मेरी पैंट उतारकर मुझे निहारने लग गई. मैं शिल्पा आंटी के सामने अब अंडरवेर मे था और मेरा लंड भी उनकी ये सब बाते सुनकर पूरा खड़ा हो चुका था. आंटी ने मेरे खड़े लंड को अंडरवेर मे देखा तो वो बहोत खुश हो गई क्योकि शायद वो यही चाहती थी.

Pages: 1 2 3

Comments 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *