अनोखा अनुभव फ्लाइट मे चुदाई का

हेलो दोस्तो, मेरा नाम विवेक हैं और मैं एक प्राइवेट एरलाइन कंपनी मे जॉब करता हू. मैं देसी कहानी का रेग्युलर रीडर हू और कई बार सोचता हू की अपनी रियल कहानी भी पोस्ट करू, लेकिन अपने प्रोफेशन की वजह से हिम्मत नही कर पाया. ये कहानी मेरी और सौम्या की हैं जो मैं उसकी पर्मिशन के बाद ही यहा पोस्ट कर रहा हू. अब मैं अपनी स्टोरी पे आता हू, जैसा की मैने बताया मैं एक प्राइवेट एरलाइन कंपनी मे जॉब करता हू और ज़्यादा वक्त हमारा ट्रॅवेलिंग मे ही रहता हैं. मेरी एज 28 ईयर्स हैं. मैं एक स्मार्ट और हॅंडसम लड़का हू, सौम्या और मेरी ट्रैनिंग साथ मे हुई थी और हमारी नाइट शिफ्ट भी कई बार साथ मे होती थी. एक ही कॅबिन क्रू मेंबर होने की वजह से हमे कई बार नाइट मे देल्ही से न्यूवैयोर्क और कॅनडा ट्रॅवेल करना पड़ता था.

ये बात 2012 की हैं जब हम देल्ही से कॅनडा की फ्लाइट मे क्रू मेंबर थे, रात के 2.50 बज रहे थे तभी एक पॅसेंजर टाय्लेट के लिए गया था और काफ़ी देर तक बाहर वापस नही आया तो सौम्या ने चेक किया एग्ज़िक्युटिव क्लास मे 2 सीट्स पे पॅसेंजर नही थे. सौम्या ने कॅबिन से पास टाय्लेट नॉक किया तो कुछ जवाब नही आया. दूसरे टाय्लेट के पास जाने पे सौम्या को पता चला की टाय्लेट मे से कुछ आवाज़ आ रही हैं. और सौम्या ने जल्दी से आकर ये सब मुझे बताया. हम दोनो वापस उस टाय्लेट की तरफ गए और ध्यान से सुनने की कोशिश करने लगे तो अंदर से सेक्स करने और सिसकयूओं की आवाज़े आ रही थी. लेट नाइट 3 बज रहे थे सो बाकी सारे पॅसेंजर गहरी नींद मे थे. हम दोनो अब कान दरवाजे पे लगा के वो आवाज़े सुनने लगे. धीरे धीरे उनकी आवाज़े और तेज़ होती गई, और हमे बाहर उनकी आआहह उफफफफफ्फ़ म्‍म्म्ममम ओह्ह्ह्ह. एसस्सस्स कम ओन्णन्न् ओह्ह्ह्ह फुक्कककक म्‍म्म्मम प्लीज़ डू हार्ड ओह्ह्ह्ह आराअम से सुनाई दे रही थी.

अचानक मैने देखा सौम्या जो गेट पे कान लगा के उनकी आवाज़े ध्यान से सुन रही थी और अपने एक हाथ को अपनी स्कर्ट के अंदर अपनी पुसी पे घुमा रही थी..सौम्या को कुछ होने लगा था और वो बिल्कुल पसीना पसीना हो गई थी. उसे देख कर मेरी भी हालत खराब हुए जा रही थी और टाय्लेट के अंदर से वो आवाज़े हमे और गरम कर रही थी. तभी मैने एक दम कहा सौम्या तो वो घबरा गई और डर गई. लेकिन मैं सब कुछ समझ गया था की वो अब कंट्रोल से बाहर हो रही हे. तभी टाय्लेट से आवाज़े आना बंद हो गई और हम सावधान हो गए और अपने क्रू कॅबिन मे आ गए. हमने देखा की वो जो टाय्लेट मे थे वो कॅनडा के पॅसेंजर थे और अपने एक लड़का और एक बहुत ही हॉट लड़की जो हाव भाव से तो कोई प्रोफेशनल कॉल गर्ल लग रही थी. कुछ देर मे सब कुछ शांत हो गया अभी भी हमारे कानो मे वो आवाज़े गूँज रही थी और हम पागल हुए जा रहे थे लेकिन मैं और सौम्या बस एक दूसरे को देखे ही जा रहे थे.

More Sexy Stories  लॅंड और चूत की कहानी इन न्यू स्टाइल

सुबह के 4 बज रहे थे सारे पॅसेंजर गहरी नींद मे थे तो मैं चुपके से सौम्या के पास चला गया और उससे बातें करने लगा, वैसे ही हम एर होस्टेस्स एकदम फ्रेंक होते हैं तो मैं झट से सौम्या को पूछ लिया की क्या हुआ. कुछ कुछ हुआ क्या. तो उसने भी एक स्माइल दी और आँख मार के मेरी तरफ देखने लगी. हम 6 मंत से साथ जॉब कर रहे थे बट हमे ये मौका अभी तक नही मिला था जो आज मिलने वाला था. मैने भी सौम्या को वापस आँख मारी और कॅबिन से साइड टाय्लेट के तरफ जाने का इशारा किया. वैसे भी सौम्या एर होस्टेस थी और उसका फिगर तो उपर वाले ने बहुत प्यार से बनाया होगा. 34 24 34 का उसका फिगर था जो आज मेरे हाथो मे आने वाला था. मैं भी टाय्लेट के पास पहुच गया और गेट बंद करके सौम्या को किस करने लगा. वो तो पागल हुए जा रही थी शायद उसका पहला सेक्स ऑर्गॅनिसम एक्सपीरियेन्स हो रहा था उसने मुझे टाइट पकड़ लिया और मेरे कान मे वही वर्ड्स बोलने लगी जो जो हमने टायिलेट्स मे उन पॅसेंजर’स के सुने थे.

प्लीज़ फक आ अहह उम्म्म्मम ओह्ह्ह्ह्ह्ह आह प्ल्स फक मी हार्ड . ये सब सुन के तो मेरी हवा टाइट हो गई थी मैने देखा मेरा पेनिस भी अब साइज़ चेंज कर रहा था और मुझे भी कुछ होने लगा. मैने सौम्या की ड्रेस जो की ज़िप वाली थी एक ही झटके मे खोल दी और देखा तो देखता ही रह गया. क्या माल था उसके इतने गोरे बूब्स थे जैसे उनसे दूध बाहर आने ही वाला हो. मैने धीरे धीरे उनको किस करना शुरू किया और दबाने लगा अब सौम्या की सिसकयूओं की आवाज़े भी बढ़ने लगी थी वो मेरे सिर को अपने दोनो बूब्स मे ज़ोर से दबा रही थी और मैं उनको अब ज़ोर ज़ोर से चूस रहा था. मैने सौम्या की पैंटी भी अब उतार दी और एक फिंगर से उसको रब कर रहा था वो पूरी वेट हो चुकी थी एकदम पिंक और जेल्ली की तरह. अब मुझसे भी रहा नही गया और उसे मैने खड़े खड़े ही अपने कमर पे लपेट लिया और अपने पेनिस को सौम्या की पूसी मे डालने लगा “फ्लाइट मे चुदाई”.

More Sexy Stories  प्यारी बहन की कामुकता शांत की

धीरे धीरे वो भी मेरी कमर पर आगे पीछे होकर मेरे पेनिस को अपनी पूसी मे ले रही थी और मेरे कान के पास बोल रही थी अहह अहह म्‍म्म्ममम ओह्ह्ह्ह्ह उम्म्म्मममम दीपक प्लीज़ और अंदर डालो. आअहह और डालो ना प्लीज़ , दीपक प्लीज़ फक मी हार्ड आअहह दीपक. और अब मैं भी फुल जोश मे था और उसे ज़ोर ज़ोर से फक कर रहा था. टाय्लेट मे अब ज़ोर ज़ोर से आवाज़ हो रही थी बस फच फच की आवाज़ और सौम्या की हॉर्नी सिसकयूओं की आवाज़. सारे पॅसेंजर गहरी नींद मे थे तो हम बेफिकर थे. और मस्ती से चुदाइ मे मगन थे. ये शायद सौम्या का फर्स्ट ऑर्गॅनिसम था सो हमने बहुत एंजॉय किया. लगभग 30 मिनिट्स तक सेक्स करने के बाद हम दोनो कपड़े सही करके बाहर आ गए और एकदम नॉर्मल हो गए. लेकिन फिर भी हमने एक दूसरे को आँख मारी और कहा विल कीप कंटिन्यू इन नेक्स्ट फ्लाइट. जो आज तक कंटिन्यू हैं, हमे अब जब कभी भी मौका मिलता हैं हम फ्लाइट मे सेक्स करते हैं. थॅंक यू दोस्तो. अपने सजेशन्स मुझे ज़रूर मैल करना मेरी मैल आईडी है “[email protected]”. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *